16 साल के बच्चे ने हैक किया एप्पल का सिक्योर सर्वर, चोरी किया 90GB डाटा

 अब तक माना जा रहा था कि एप्पल के सर्वर्स से डाटा को हैक करना काफी मुश्किल है लेकिन एक 16 साल के बच्चे ने एप्पल की सिक्योरिटी को तोड़ते हुए कम्पनी के डाटा तक अपनी पहुंच बना ली है। ऑनलाइन न्यूज़ वैबसाइट द वर्ज की रिपोर्ट के मुताबिक ऑस्ट्रेलिया में रहने वाले एक 16 वर्षीय बच्चे ने एप्पल की सिक्योरिटी को तोड़ते हुए कम्पनी के सिक्योर सर्वर से 90GB डाटा को चोरी कर लिया। इसके बाद उसने सर्वर में “हैकी हैक हैक” नाम से एक फोल्डर भी बनाया जिसमें इस अटैक से जुड़ी जानकारी को सेव किया गया। नाबालिग होने के कारण बच्चे के नाम को उजागर नहीं किया गया है।

इस तरह किया गया अटैक
बच्चे ने VPNs (वर्चुअल प्राइवेट नैटवर्क) के जरिए इस अटैक को अंजाम दिया। ऐसा इस लिए किया गया ताकि वह अपनी पहचान को गोपनीय रख सके। इस अटैक के दौरान उसने ऑथोराइज कीज़ का भी एक्ससेस हासिल कर लिया व यूजर्स के लॉगिन व पासवर्ड भी चैक किए। लेकिन एप्पल ने अटैक के लिए यूज़ किए गए लैपटॉप के सीरियल नम्बर का पता लगा लिया जिसके बाद इनवैस्टिगेशन करते हुए इस बच्चे को पकड़ लिया गया।

जब्त की गई डिवाइसिस
ऑस्ट्रेलियन फ्रैड्रल पुलिस (AFP) ने दो लैपटॉप्स, एक मोबाइल फोन और एक हार्ड ड्राइव को बरामद किया है। रिपोर्ट के मुताबिक डाटा को हैक करने के बाद बच्चे ने स्क्रीनशॉट्स को अपने दोस्तों के साथ व्हाट्सएप पर शेयर भी किया था। फिलहाल इस बात की जानकारी नहीं मिली है कि किस तरह के डाटा को चोरी किया गया।

वकील ने दिया हैरान कर देने वाला ब्यान

  • बच्चे के वकील ने कहा है कि यह एप्पल कम्पनी का एक बहुत बड़ा फैन है और एप्पल के लिए काम करना चाहता है। फिलहाल बच्चे को कोर्ट ने दोषी करार दिया है, हालांकि सजा का अभी ऐलान नहीं हुआ है।
  • आपको बता दें कि अब तक एप्पल डाटा चोरी के सम्बन्ध में इतने बड़े पैमाने पर शिकार नहीं हुई है। दुनिया के बहुत सारे हैकर्स एप्पल सर्वर्स पर अपनी पहुंच बनाने में नाकाम रहे हैं, लेकिन एक 16 वर्ष के बच्चे द्वारा डाटा में सेंध लगाना हैरत की बात है।

About Anil Gupta

Check Also

जुकरबर्ग को Facebook के CEO पद से देना पड़ सकता है इस्तीफा

सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं। कंपनी के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *