JavaScript must be enabled in order for you to see "WP Copy Data Protect" effect. However, it seems JavaScript is either disabled or not supported by your browser. To see full result of "WP Copy Data Protector", enable JavaScript by changing your browser options, then try again.
Home / खेल / विंटर ओलंपिक: भारत के शिवा केशवन 34वें स्थान पर रहे, खेल से संन्यास लिया

विंटर ओलंपिक: भारत के शिवा केशवन 34वें स्थान पर रहे, खेल से संन्यास लिया

प्योंगयांग: शीतकालीन खेलों में लंबे समय से भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे शिवा केशवन ने रविवार को प्योंगयांग शीतकालीन ओलंपिक की पुरुष ल्यूज एकल स्पर्धा में 34वें स्थान पर रहने के बाद अपने दो दशक से अधिक लंबे अंतरराष्ट्रीय करियर को अलविदा कहा। 36 साल के केशवन ने ओलंपिक अभियान का सर्वश्रेष्ठ समय निकाला और तीसरे राउंड की हीट में 1344 मीटर के ट्रैक को 48.9 सेकेंड में पूरा किया। वह तीसरी हीट में 40 प्रतिभागियों में 30वें जबकि तीन दौर के बाद कुल 34वें स्थान पर रहे।

परिवार के सदस्य भी प्योंगयांग पहुंचे
तीन दौर के बाद शीर्ष 20 में जगह नहीं बनाने के कारण केशवन चौथे और अंतिम दौर में हिस्सा नहीं ले पाए जिसमें पदक का फैसला हुआ।  केशवन दूसरे दौर के बाद भी कुल 34वें स्थान पर चल रहे थे। तीन दौर के बाद उनका कुल समय दो मिनट 28.188 सेकेंड रहा। आस्ट्रिया के डेविड ग्लेयरशर ने स्वर्ण पदक जीता जबकि अमेरिका के क्रिस माजदेर ने रजत पदक हासिल किया जो उनके देश का पुरुष ल्यूज एकल में पहला पदक है। जर्मनी के योहानेस लुडविग ने कांस्य पदक हासिल किया। केशवन ने फिनिश लाइन पार करते ही दर्शकों का अभिवादन किया और अपने स्लेड को अंतिम बार सिर के ऊपर उठाकर दर्शकों की ओर लहराया। दर्शकों के बीच उनके परिवार के सदस्य भी मौजूद थे।

हिमाचल के मनाली के समीप वशिष्ठ के रहने वाले केशवन दो शतक से अधिक समय तक देश में शीतकालीन ओलंपिक का चेहरा रहे। उन्होंने प्योंगयांग खेलों से ठीक पहले कहा था कि शीतकालीन ओलंपिक उनके करियर की अंतिम अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता होगी। केरल के भारतीय पिता और इतालवी मां के बेटे केशवन का जन्म मनाली में हुआ और वह वहीं पले-बढ़े। उन्होंने 1998 में जापान के नगानो में मात्र 16 बरस की उम्र में पहली बार शीतकालीन ओलंपिक में हिस्सा लिया। इसके बाद उन्होंने प्रत्येक शीतकालीन ओलंपिक में हिस्सा लिया। वह ल्यूज में गत एशिया चैंपियन और सबसे तेज समय का रिकार्ड बनाने वाले खिलाड़ी हैं। उन्होंने 2011, 2012, 2016 और 2017 में एशिया ल्यूज चैंपियनशिप जीती।

About Anil Gupta

Check Also

सेंचुरियन टी-20 में धोनी और क्लासेन ने रिकॉर्ड भी बनाया

जालन्धर : सेंचुरियन सुपरस्पोर्ट पार्क में खेले गए दूसरे टी-20 में चाहे दक्षिण अफ्रीका ने भारत …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Social Media Auto Published Powered by SMC Online Stores.

हुनर है तो हौसला भी है     |     अवैध शराब बरामद की गई     |     अब दो हजार परिवारों को मिलेगा मुफ्त गैस कनेक्शन     |     अागरा में मोहन भागवत से हुई मुख्यमंत्री योगी की मुलाकात, 2019 की तैयारी पर चर्चा     |     थाना प्रभारी को मिली सफलता     |     काला कोट क्षेत्र की अनदेखी कर रही है     |     पाक क्रिकेट को सपोर्ट करते दिखे कपिल शर्मा, लोगों ने कमेंट करके निकाली भड़ास     |     महिला क्रिकेटर हरमनप्रीत को मिली बड़ी ख़ुशी, रेलवे ने कैंसल किया बांड     |     विधायक के तेवर नरम पडे     |     भरोसेमंद चेतेश्वर पुजारा के घर आई नन्ही परी, शादी के 5 साल बाद बने पिता     |